वकील, अधिवक्ता और बैरिस्टर के बीच अंतर?

वकील (Lawyer) वकील किसे कहते हैं? “वकील (Lawyer)” का अर्थ होता है कोई व्यक्ति जो कानून पढ़ चुका है और कानूनी सलाह देने और कानूनी मामलों में ग्राहकों का प्रतिनिधित्व करने के योग्य होता है. यह एक व्यापक शब्द है जिससे सॉलिसिटर, बैरिस्टर, एटॉर्नी, और कानूनी सलाहकार जैसे विभिन्न कानूनी विशेषज्ञों का सम्मिलित आभास होता … Read more

संविधान क्या है? यह कब लागू हुआ? | संविधान सभा का गठन कब हुआ?

संविधान क्या है? संविधान एक ऐसा मैलिक दस्तावेज है जो राज्य के तीनों अंगों अर्थात कार्यपालिका, विधायिका और न्यायपालिका की स्थिति एवम् शक्तियों को स्पष्ट करता है. यह केवल राज्य के अंगों का सृजन नहीं करता, बल्कि अनेकों पदाधिकार परिसपारित करते हुए उन्हें निरंकुश और तनाशाह होने से रोकता है. संविधान एक राष्ट्र की सर्वोच्च … Read more

राष्ट्रपति की आपातकालीन शक्तियां और उद्घोषणा का प्रभाव?

राष्ट्रपति की आपातकालीन शक्तियों पर निबन्ध? | राष्ट्रपति की आपातकालीन शक्तियों का वर्णन? राष्ट्रपति की आपातकालीन जारी करने की शक्ति राष्ट्रपति इस संविधान के अन्तर्गत निम्नलिखित तीन दशाओं में आपात की उद्घोषणा जारी कर सकता है- 1. युद्ध था बाह्य आक्रमण या सशस्त्र विद्रोह होने की दशा में आपात की उद्घोषणा अनुच्छेद 352 अनुसार- यदि … Read more

भारत निर्वाचन आयोग के कार्य और शक्तियां?

निर्वाचन आयोग क्या है? निर्वाचन आयोग भारत में इस संविधान के द्वारा लोकतान्त्रिक सरकार स्थापित की गई है. अतः प्रत्येक पाँचवे वर्ष जनता के प्रतिनिधियों का चुनाव किया जाता है. इस कार्य के लिए संविधान ने अनुच्छेद 324 के अन्तर्गत भारत में एक निर्वाचन आयोग की स्थापना किया है. यह आयोग एक स्वतन्त्र निकाय है, … Read more

भारत के महान्यायवादी के कार्य और शक्तियां?

भारत के महान्यायवादी की नियुक्ति कौन करता है? संविधान के अनुच्छेद 76 (1) के अनुसार, राष्ट्रपति भारत के महान्यायवादी की नियुक्ति करता है भारत के महान्यायवादी के पद पर वही व्यक्ति नियुक्ति किया जा सकता है जिसमें उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीश के पद पर नियुक्त किये जाने की योग्यता होती है. अनुच्छेद 76 (4) के … Read more

भारत के उच्चतम न्यायालय की स्थापना और गठन?

उच्चतम न्यायालय की स्थापना और गठन? उच्चतम न्यायालय (Supreme Court) संघ और राज्यों के बीच शक्तियों का विभाजन संघात्मक संविधान का मूल तत्व है. यह विभाजन एक लिखित संविधान द्वारा होता है जिसको बनाये रखने के लिए संविधान के उपबन्धों की सही व्याख्या आवश्यक है. ऐसी व्याख्या किसी ऐसी संस्था के द्वारा ही सम्भव है … Read more

राज्यपाल की नियुक्ति और उसकी शक्तियां? | Appointment and powers of the Governor?

अनुच्छेद 153 के अनुसार, प्रत्येक राज्य के लिये एक राज्यपाल होता है किन्तु एक ही व्यक्ति दो या अधिक राज्यों के लिये राज्यपाल के पद पर नियुक्त किया जा सकता है. राज्यपाल की नियुक्ति राज्यपाल की नियुक्ति कैसे होती है? अनुच्छेद 155 और 156 के अनुसार, राज्यपाल की नियुक्ति राष्ट्रपति के द्वारा की जाती है … Read more

भारत और अमेरिका के राष्ट्रपति पर महाभियोग की प्रक्रिया?

भारतीय अमेरिकी संविधान के उपबन्धों में कुछ अन्तर है. भारत के राष्ट्रपति पर महाभियोग ‘संविधान के अतिक्रमण’ के लिए लगाया जा सकता है जब कि अमेरिका के राष्ट्रपति पर महाभियोग ‘राजद्रोह’, ‘घूस लेने’ और अन्य ‘अपराध’ करने के आधार पर लगाया जा सकता है. भारत के राष्ट्रपति पर महाभियोग की प्रक्रिया क्या है? राष्ट्रपति पर … Read more

भारतीय संविधान द्वारा प्रदत्त और प्रत्याभूति मौलिक अधिकार?

मौलिक अधिकार क्या है? मौलिक अधिकार उन अधिकारों को कहा जाता है जो व्यक्ति के व्यक्तित्व विकास और गरिमापूर्ण जीवन जीने के लिए आवश्यक होते हैं. इन अधिकारों को विधायिका या सरकार द्वारा छीना नहीं जा सकता. इन अधिकारों को मौलिक इसलिये कहा जाता है क्योंकि इन्हें देश के संविधान में स्थान दिया गया है … Read more

भारत के राष्ट्रपति के चुनाव के लिये संविधान में विहित प्रक्रिया?

राष्ट्रपति पद का चुनाव संविधान के अनुच्छेद 55; भारत के राष्ट्रपति के चुनाव के लिये निम्नलिखित प्रक्रिया विहित करता है- राष्ट्रपति के चुनाव की विधि स्पष्टीकरण के अनुसार, ‘जनसंख्या’ का अर्थ वह जनसंख्या होगी जो इस चुनाव के पूर्व अन्तिम जनगणना में प्रकाशित की जा चुकी हो। किन्तु जब तक सन् 2000 के बाद की … Read more